Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

क्या मिला

ओह नादान ज़िंदगी , ज़रा अपना हाल तो देख
कितना कुछ छूट गया पीछे ,
कितना बाकी है अभी
बचपन की किलकारियां, जवानी की मुस्कुराहटें
अधेड़ उम्र का अनुभव
झोली भर अहसास, अपनों का विशवास
रिश्तों में कुछ खास
कुछ जुटा पायी भी क्या तू ?
या खो दिया सब कुछ
खुद को ढूंढ़ते हुए
क्या मिला ???
खाली वजूद को ढ़ोते हुए…….

1 Like · 2 Comments · 178 Views
You may also like:
भूल जाओ इस चमन में...
मनोज कर्ण
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️बचा लेना✍️
'अशांत' शेखर
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
R
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
'अशांत' शेखर
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
"आज बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
करवा चौथ
Manoj Tanan
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जो बीत गई।
Taj Mohammad
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
✍️जुस्तजू आसमाँ की..✍️
'अशांत' शेखर
"आओ हम सब मिल कर गाएँ भारत माँ के गान"
Lohit Tamta
🍀प्रेम की राह पर-55🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
हिंदी दोहे बिषय-मंत्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बहुमत
मनोज कर्ण
मालूम था।
Taj Mohammad
संस्कार
साहित्य गौरव
शिकस्ता हाल।
Taj Mohammad
हर घर में।
Taj Mohammad
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
" दृष्टिकोण "
DrLakshman Jha Parimal
नरसिंह अवतार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...