Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Aug 2016 · 1 min read

क्या छोड़ आए हैं।

बैठ पल दो पल उनकी,
पनाहों से जो आए हैं,
न जाने कितने ही,
हसीन ख्वाब,
उनकी आँखों में,
छोड़ आए हैं।

जब उठे थे,
उनके पहलू से,
साँसों में,
रवानगी साथ,
एक दीवानगी,
छोड़ आए हैं।

आने को कह कर,
बस उनके पास,
अपने इंतजार के,
लम्हें छोड़ आए हैं।

उनकी बाहों में सिमट,
कई सपने बुने,
जाते -जाते,
उन सपनों की,
निशानी छोड़ आए हैं।

नजर से नजर मिली,
कई जज्बात जागे,
उनकी साँसों में,
अपनी महक,
छोड़ आए हैं।

रचनाकार…..
(Veena pawan mehta)

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 188 Views
You may also like:
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
आदर्श पिता
Sahil
*गाता है शरद वाली पूनम की रात नभ (घनाक्षरी: सिंह...
Ravi Prakash
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
एक झूठा और ब्रह्म सत्य
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
छोटी-छोटी बातों में लड़ते हो तुम।
Buddha Prakash
✍️शहीदों को नमन
'अशांत' शेखर
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
ఎందుకు ఈ లోకం పరుగెడుతుంది.
विजय कुमार 'विजय'
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
गुमान
AJAY AMITABH SUMAN
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
जीने ना दिया है।
Taj Mohammad
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
🌺🌺🌺शायद तुम ही मेरी मंजिल हो🌺🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
बख्स मुझको रहमत वो अंदाज़ मिल जाए
VINOD KUMAR CHAUHAN
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
जवाब दो
shabina. Naaz
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
Writing Challenge- कल्पना (Imagination)
Sahityapedia
रावण कौन!
Deepak Kohli
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
सुधर जाओ, द्रोणाचार्य!
Shekhar Chandra Mitra
किस किस को वोट दूं।
Dushyant Kumar
Loading...