Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-265💐

क्या कोई मुश्किल थी सीधा बोलते?
इक मुक़ाम पर लाकर काँटे दिए गए।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
सामाजिक न्याय
सामाजिक न्याय
Shekhar Chandra Mitra
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
🍃🌾🌾
🍃🌾🌾
Manoj Kushwaha PS
बात ! कुछ ऐसी हुई
बात ! कुछ ऐसी हुई
अशोक शर्मा 'कटेठिया'
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
बाबा मैं हर पल तुम्हारे अस्तित्व को महसूस करती हुं
Ankita Patel
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
हर तरफ़ तन्हाइयों से लड़ रहे हैं लोग
Shivkumar Bilagrami
मेरा चाँद न आया...
मेरा चाँद न आया...
डॉ.सीमा अग्रवाल
है हिन्दी उत्पत्ति की,
है हिन्दी उत्पत्ति की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी बेटियाँ
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
वो महक उठे ---------------
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
चंद्रयान-3 / (समकालीन कविता)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कोरोना महामारी
कोरोना महामारी
Irshad Aatif
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) - डॉ. जियाउर रहमान जाफरी
मैथिली के प्रथम मुस्लिम कवि फजलुर रहमान हाशमी (शख्सियत) - डॉ. जियाउर रहमान जाफरी
श्रीहर्ष आचार्य
नर्क स्वर्ग
नर्क स्वर्ग
Bodhisatva kastooriya
अभागीन ममता
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
"वक्त की औकात"
Ekta chitrangini
हमारे पास करने को दो ही काम है।
हमारे पास करने को दो ही काम है।
Taj Mohammad
*रिपोर्ट* / *आर्य समाज में गूॅंजी श्रीकृष्ण की गीता*
*रिपोर्ट* / *आर्य समाज में गूॅंजी श्रीकृष्ण की गीता*
Ravi Prakash
😊पुलिस को मशवरा😊
😊पुलिस को मशवरा😊
*Author प्रणय प्रभात*
विचार मंच भाग -8
विचार मंच भाग -8
Rohit Kaushik
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
अद्भभुत है स्व की यात्रा
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हनुमंता
हनुमंता
Dhirendra Panchal
Loading...