Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 20, 2022 · 1 min read

क्या कोई मुझे भी बताएगा

क्या कोई मुझे भी बताएगा
लोग लिख कैसे लेते हैं…
हाल ए दिल तमाम लफ्जों के सहारे
पन्नों पर उतार कैसे देते हैं…
– कृष्ण सिंह

63 Views
You may also like:
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
हर ख़्वाब झूठा है।
Taj Mohammad
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
लोग जमसे गये है।
"अशांत" शेखर
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
फादर्स डे पर विशेष पिरामिड कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
स्पर्धा भरी हयात
AMRESH KUMAR VERMA
बहुत घूमा हूं।
Taj Mohammad
मैं हैरान हूं।
Taj Mohammad
हमारे शुभेक्षु पिता
Aditya Prakash
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
#रिश्ते फूलों जैसे
आर.एस. 'प्रीतम'
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गढ़वाली चित्रकार मौलाराम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
टूटे बहुत है हम
D.k Math
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
यादें
Sidhant Sharma
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
प्यारा भारत
AMRESH KUMAR VERMA
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
Loading...