Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-537💐

क्या कोई ज़िद है जिसे पयाम की तराजू से नापें,
दिल से दिल की दूरी को अब किस बात से नापें,
ये चिलमन जो है किस बात की रंजिश से है उन्हें,
कभी चलते ग़र संग हर क़दम भी संग-संग नापें।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
175 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
कि दे दो हमें मोदी जी
कि दे दो हमें मोदी जी
Jatashankar Prajapati
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
✍️✍️जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
नारियल
नारियल
Buddha Prakash
जब चलती पुरवइया बयार
जब चलती पुरवइया बयार
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
बिखरे अल्फ़ाज़
बिखरे अल्फ़ाज़
Satish Srijan
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
🌸हे लोहपथगामिनी 🌸🌸
Arvina
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
ज़िंदगी हमको
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
"फर्क"-दोनों में है जीवन
Dr. Kishan tandon kranti
समय का मोल
समय का मोल
Pt Sarvesh Yadav
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
कितने उल्टे लोग हैं, कितनी उल्टी सोच ।
Arvind trivedi
माई री ,माई री( भाग १)
माई री ,माई री( भाग १)
Anamika Singh
बुद्ध ही बुद्ध
बुद्ध ही बुद्ध
Shekhar Chandra Mitra
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
छाया है मधुमास सखी री, रंग रंगीली होली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपमान
अपमान
Dr Parveen Thakur
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
Ram Krishan Rastogi
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
*दिलों से दिल मिलाने का, सुखद त्योहार है होली (हिंदी गजल/ गी
Ravi Prakash
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
अगर प्यार करना गुनाह है,
अगर प्यार करना गुनाह है,
Dr. Man Mohan Krishna
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
पर्यावरण संरक्षण
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...