Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#6 Trending Author
Apr 16, 2022 · 1 min read

क्या कहते हो हमसे।

क्या कहते हो हमसे तुमको मुहब्बत नहीं।
झूठ बोलते हो कि बंद आंखों में मेरी सूरत नहीं।।1।।

खूब जानता हूं मैं तुम्हारी शैतानियों को।
हमारे अलावा तुम्हें किसी की भी जरूरत नहीं।।2।।

जिस्म ओ जां के तुम मालिक हो हमारे।
तुम्हारे अलावा यूं दिल मे किसी की मूरत नही।।3।।

बेखौफ बोलना तुम कौन आएगा सामने।
रोके तुम्हें अभी दुनियां में इतनी भी जुर्रत नहीं।।4।।

तुझमें ताकत है शेरे अली की पहचान तू।
आये जो जंगे मैदान किसी में ऐसी कूवत नही।।5।।

जमूहुरियत का अब हो गया सारा जहां।
अब जालिमों की होती कही भी हुकूमत नही।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

89 Views
You may also like:
लिखता जा रहा है वह
gurudeenverma198
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
सच में ईश्वर लगते पिता हमारें।।
Taj Mohammad
हर रोज योग करो
Krishan Singh
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
मन के गाँव
Anamika Singh
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
इंसानियत बनाती है
gurudeenverma198
मंदिर
जगदीश लववंशी
पिता
Neha Sharma
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
मदिरा और मैं
Sidhant Sharma
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
आकाश
AMRESH KUMAR VERMA
बचपन
Anamika Singh
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
मेरी मोहब्बत की हर एक फिक्र में।
Taj Mohammad
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
Loading...