Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

****कौन भला विश्वास करेगा****

निम्नवत पहले दो पदों में मासूम गोल कपोल बच्चे प्रद्युम्न के लिए, जिसे जाने क्यों अकारण मार दिया जाता है। (उस अबोध को भावभरी श्रद्धांजलि) इस सन्देश के साथ कि अपने बच्चों पर पैनी नज़र रखे कि वह कैसे लोगों की संगति प्राप्त कर रहा है साथ ही उनके स्वभाव में कहीं कोई परिवर्तन तो नहीं हो रहा है तो उसे प्यार दुलार और मित्रवत ढंग से उससे पूछते रहें। और कविता का आनन्द लें।

मानवता क्यों सिमटी ऐसी?,तीव्र वेदना उठी हृदय से,
भोला बचपन न बच पाया, मानुष के इस कपटी मन से,
कपटी मन की करतूतों ने, खो डाला ईमान धरा पर,
कौन भला विश्वास करेगा, कितना रख लो सत्य यहाँ पर ॥1॥

भोले बचपन को नहीं बख्शा, ऐसे क्यों विचार उगे हैं ?
तर्क करो अपने मन में,क्या हम निज संस्कृति से भटक गए है,
संस्कृति के पन्नों को पलटिए, खो डाला ईमान धरा पर,
कौन भला विश्वास करेगा, कितना रख लो सत्य यहाँ पर ॥2॥

ज्ञानवान है मानव मन और तन भी दुर्लभ कहलाता है,
शिक्षा के इस बेहतर युग में, निरा मूढ क्यों बन जाता है,
ऐसी शिक्षा ने अनपढ़ करके, खो डाला ईमान धरा पर,
कौन भला विश्वास करेगा, कितना रख लो सत्य यहाँ पर ॥3॥

जाति पाँति ने आग लगाकर, कमजोर बना डाला समाज को,
बचा खुचा इस राजनीति ने, नीच सिखा डाला समाज को,
राजनीति ने रूप बदलकर, खो डाला ईमान धरा पर,
कौन भला विश्वास करेगा, कितना रख लो सत्य यहाँ पर॥4॥

धर्म के ठेकेदारों ने, परिवर्तित कर डाला रूप धर्म का,
ज्ञान नहीं क ख ग का भी, उपदेश बताते वह मर्म का,
अधर्मियों के कारण धर्मियों ने भी,खो डाला ईमान धरा पर,
कौन भला विश्वास करेगा, कितना रख लो सत्य यहाँ पर॥5॥

(पद क्रमांक-5 में अधर्मियों के कारण धर्मियों पर भी उँगली उठना शुरू हो गई है।)

##अभिषेक पाराशर ##

363 Views
You may also like:
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
Little sister
Buddha Prakash
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
इस तरह
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
# पिता ...
Chinta netam " मन "
यादें
kausikigupta315
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Ram Krishan Rastogi
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Kanchan Khanna
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...