Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2022 · 1 min read

कौन थाम लेता है ?

जब भी मैं गिरता हूँ तो न जाने कौन थाम लेता है ?
देखूं उसे तो आँखों से ओझल होकर चल देता है I

प्यार की पतंग मेरी आसमान में दूर उड़ती जाए,
गुलशन में सतरंगी निशानियां छोड़ती चली जाए,
लाख कोशिश करे पर मेरी पतंग पकड़ न पाए,
नदी – पहाड़ो को पार करके दूर बढती ही जाए I

जब भी मैं गिरता हूँ तो न जाने कौन थाम लेता है ?
देखूं उसे तो आँखों से ओझल होकर चल देता है I

मेरे मांझी, तेरी नैय्या पर सवार होकर चलते गए,
तेरे प्यार की पतवार के सहारे सागर में बढते गए,
तूफ़ान-बारिश के थपेड़ो से सागर में बचते गए,
तेरे एक प्यार की नज़र से गिरकर भी उठते गए I

जब भी मैं गिरता हूँ तो न जाने कौन थाम लेता है ?
देखूं उसे तो आँखों से ओझल होकर चल देता है I

ज़माना कुछ भी कहे, पिया तुझसे मोहब्बत करेंगे,
ताउम्र तक, तेरे प्यार की मूरत की इबादत करेंगे,
“राज”अपने देश जाने से पहले एक इबारत लिखेंगे,
“प्रेम” से बढकर कोई मजहब नहीं कहकर चल देंगे I

जब भी मैं गिरता हूँ तो न जाने कौन थाम लेता है ?
देखूं उसे तो आँखों से ओझल होकर चल देता है I
*****************************************
देशराज “राज”
कानपुर I

3 Likes · 4 Comments · 225 Views
You may also like:
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
कहां पर
Dr fauzia Naseem shad
तुम मेरा दिल
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
होती हैं अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
पिता
Shankar J aanjna
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
Loading...