Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 21, 2017 · 1 min read

*”कौआ कनागत् और सीख “*

आओ..आओ.. आओ..कागा,
आयो..कनागत्..मांड़ी ..काढ़ी,
पितृ.. पिण्ड.. जिम्मा.. बने सौभाग्यी,
.
तिड़..तिड़..तिड़..जाओ..कागा,
हुए.. पिण्ड.. पूरे,
आज..अमावस्या..काढ़ी,

बैठ मंड़ेर कावँ-काँव करता कागा,
अतिथि अथवा शुभ संदेश लाना कागा,
हुई रीति पुरानी,
अब तो विडिओ कॉल पर आजा

अशुद्धि सफाई का द्धोतक है कौआ,
कर्कश आवाज़ नहीं है धोखा,
कोयल जैसी मधुर भाषी,
घोंसले का प्रयोग कर वंश बढ़ाती,

उपयोगिता इस धरा पर हर चीज़ में होती,
आओ..आओ..कागा..आया.. कनागत्..
.
तिड़..तिड़..तिड़..जाओ..कागा,
शारदीय नव-रात्रों की हार्दिक शुभकामनाएं

1 Like · 1 Comment · 189 Views
You may also like:
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
यादें
kausikigupta315
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
इंतजार
Anamika Singh
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...