Jan 16, 2022 · 1 min read

कोरोना संग चुनाव

बज गयी है डुगडुगी,
चुनाव छाया चहुं ओर ।
भाग गया कोरोना,
बिन चुनाव की ओर ।
नाइट में कर्फ्यू ,
दिन में बैंड बाजा ।
बंद हुए है विद्यालय ,
खुला है दारू गांजा ।
महामारी की फैली दहशत गर्दी है,
सरकार की ये कैसी हमदर्दी है ।
क्या जान से कीमती चुनाव है,
इस महामारी के बीच ।
न जाने कितनों के अपने,
संग छोड़ गये अधबीच ।
अंधेर मचा है सरकार का,
अपने मतलब से,
फायदा उठाते कोरोना का ।
कभी आंकडे़ उठाकर देखो,
चुनाव के बाद कोरोना का ।
सरकार के भरोसे,
अब न हमको रहना है ।
केवल मास्क रोक सके न इसको,
भीड़ पर भी नियंत्रण रखना है ।
महामारी को रोकने की खातिर,
संकल्प हमें आज लेना है ।
टीका सबको लगवाना है,
कोरोना को दूर भगाना है ।

डां. अखिलेश बघेल “अखिल”
दतिया (म.प्र.)

2 Likes · 6 Comments · 258 Views
You may also like:
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"बहुत दिनों बाद"
Lohit Tamta
ग़ज़ल
kamal purohit
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
पिता का दर्द
Nitu Sah
क्या कहते हो हमसे।
Taj Mohammad
सच एक दिन
gurudeenverma198
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता हैं [भाग८]
Anamika Singh
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
【1】 साईं भजन { दिल दीवाने का डोला }
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
सुन री पवन।
Taj Mohammad
*!* रचो नया इतिहास *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
Loading...