Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 2, 2021 · 2 min read

कोरोना के बाद का परिदृश्य

जैसा कि हम सबको विदित है आज समूचा विश्व एक अदृश्य वायरस के द्वारा छला जा रहा है चाहे भारत हो या विश्व की नम्बर एक शक्ति अमेरिका । चाहे इटली हो या फ्रांस । मानवता मृत्यु भय से कराह रही है , लेकिन यह महामारी अपनी पूरी शक्ति के साथ दिन दोगुनी रात चौगुनी गति से लोगों को काल के ग्रास में भेज अपनी विजय का जयघोष कर रही है ।

एक ओर चीन अपनी खलनायकी का परचम लहरा है तो दूसरी ओर अमेरिका का तिलमिलाना भी लाजमी है । हमारा देश भी संघर्ष कर रहा है आखिरकार चीनी लोगो की जीवन शैली का खामियाजा तो भुगतना होगा । चीनियों के लिए कुत्ते बिल्ली साँप प्रकृति का सृजन न होकर खाद्य पदार्थ है ।

लेकिन मोदी जेसे कुशल नेता के नेतृत्व में महामारी से मरने वालों के ग्राफ में काफी घटोत्तरी रही । प्रधानमंत्री जी के जनता कर्फ्यू का सभी ने श्रद्धा से पालन करते हुए लाकडाउन को भी फोलो किया ।प्रधानमंत्री जी के मूलमंत्र मास्क सोशल डिस्टेन्सिंग से ही इस महामारी पर विजय प्राप्त हुई ।

इस महामारी के विनाशक रूप ने हम सबको यह सोचने को मजबूर कर दिया है कि आतंकवाद और युद्ध से भी बड़ा खतरा एक वायरस से है जो वैश्विक सतर पर सोशल एवं आर्थिक प्रत्येक प्रकार की प्रगति में अवरोध है ।

कोरोना से प्रकृति की अनंत शक्ति का परिचय मिलता है कोरोना के अंत के बाद का विश्व कैसा होगा सोच-विचार, आचार-व्यवहार और आहार आदि की आदतों में किस प्रकार भिन्न होगा ।
भारती य संस्कृति वैदिक संस्कृति है जिसके धर्म दर्शन और व्यवहार में अनुकूलन की शक्ति है अनुकूलन का ही परिणाम है कि हमारे रहाँ कोरोना से मरने वालों का ग्राफ अन्य देशों की तुलना में बहुत पीछे है ।

आज की परिस्थितियां तो यही सीख दे रही है कि हमें पीछे लौटकर आधुनिक सुख सुविधाओं का त्याग करना होगा क्योकि ईश्वर की भक्ति, सात्विक भोजन, व्यायाम और अच्छे विचार से ही हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सकती है ।
कोरोना के बाद का परिदृश्य
कोरोना के बाद वैश्विक स्तर पर निम्नलिखित परिवर्तन दिखाई देगें —
1- जीवन शैली में बदलाव
2–आर्थिक विपन्नता
3- बेरोजगारी
4– शिक्षण संस्थाओं पर ताले
5- श्रम शक्ति का शोषण
6–अस्तपतालों की लूटामार

75 Likes · 1 Comment · 240 Views
You may also like:
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
'अशांत' शेखर
लाल टोपी
मनोज कर्ण
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
'अशांत' शेखर
बारिश की बूंद....
"धानी" श्रद्धा
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
कोशिश
Anamika Singh
ईद मना रही है।
Taj Mohammad
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
*अंतिम प्रणाम ..अलविदा #डॉ_अशोक_कुमार_गुप्ता* (संस्मरण)
Ravi Prakash
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
दिया और हवा
Anamika Singh
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
अपनी पलकों को
Dr fauzia Naseem shad
✍️बोन्साई✍️
'अशांत' शेखर
यादों की गठरी
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
धर्म
Vijaykumar Gundal
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
आईना
Buddha Prakash
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा।
Taj Mohammad
पापा की परी...
Sapna K S
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
लगा हूँ...
Sandeep Albela
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...