Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कोरोना की भीषण त्रासदी को बयाँ करती यह रचना

कोरोना

कोरोना की इस भयावह त्रासदी के समंदर में डूबे करोड़ो मजदूर
कोरोना की इस महात्रासदी में मैंने , इंसानियत को तार – तार होते देखा

दो वक़्त की रोटी की आस लिए और अपनों से बिछुड़ने का गम
बिलखते भूख से मजदूर, आँखों में आंसू हज़ार देखा

कोसों पैदल चलने की पीड़ा से उन्हे नहीं था गुरेज़
सड़क पर ट्रकों तले रौंदते , ट्रेन से कटते मैंने बार – बार देखा

मुसीबत के इस दौर में थी उन्हें जिन नेताओं से आस
किसी नेता को क्रिकेट, किसी को पोलो खेलते मैंने बार – बार देखा

बिखर गए सपने , बिखर गयीं सभी आशाएं
राजनीति के ठेकेदारों के चेहरे पर , बेशर्मी मैंने हज़ार बार देखा

वोट देकर जिन्हें समझा था , अपने उज्जवल भविष्य का हमसफ़र
ऐसे नेताओं द्वारा मानवता का चीरहरण मैंने बार – बार देखा

नन्ही – नन्ही जान चली जा रही थी सड़क पर , न खाना न पानी
चीख पुकार का ये आलम मैंने हज़ार बार देखा

भयावह पीड़ा से गुजर रहे थे मजदूर और उनका परिवार
बिलखते बच्चे और उनकी आँखों में आंसुओं का समंदर हज़ार – हज़ार देखा

चलती रही वो कोख में अपनी आशाओं का दीपक लिए
सड़कों पर नवजात की चीख का मंजर मैंने बार – बार देखा

पड़ रहे थे डंडे फिर भी चले जा रहे थे घर पहुंचने की आस लिए
पुलिस वालों का अपने डंडे के प्रति इतना प्यार मैंने पहली बार देखा

कोरोना की इस भयावह त्रासदी के समंदर में डूबे करोड़ो मजदूर
कोरोना की इस महात्रासदी में मैंने , इंसानियत को तार – तार होते देखा

दो वक़्त की रोटी की आस लिए और अपनों से बिछुड़ने का गम
बिलखते भूख से मजदूर, आँखों में आंसू हज़ार देखा

2 Likes · 2 Comments · 241 Views
You may also like:
✍️✍️माँ✍️✍️
'अशांत' शेखर
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दिल का करार।
Taj Mohammad
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
मतलबी
साहित्य गौरव
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
जीने का हुनर आता
Anamika Singh
कौन हो तुम….
Rekha Drolia
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
मुजीब: नायक और खलनायक ?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ना पूंछ तू हिम्मत।
Taj Mohammad
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
जिस देश में शासक का चुनाव
gurudeenverma198
यही आदत ही तो
gurudeenverma198
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
राजनेता
Aditya Prakash
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
आजादी
AMRESH KUMAR VERMA
लागेला धान आई ना घरे
आकाश महेशपुरी
ज़मीं की गोद में
Dr fauzia Naseem shad
मैं धरती पर नीर हूं निर्मल, जीवन मैं ही चलाता...
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...