Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Apr 2020 · 1 min read

कोरोना का संग, हमें लगा जंग (हास्य कविता)

कोरोना अब काहे का रोना है,
अब तो जी भर कर सोना है।
लॉकडाउन में बस खाते जाना है,
खुद बाहर नही पर पेट को बाहर लाना है।
घर पर भी मास्क लगाना है,
वर्ना व्यंजनो के फोटो देखकर मुंह मे पानी आना है।
बच्चों को स्कूल नही जाना है,
घर पर पूरा दिन आतंक मचाना है।
महिलाओ को पति का संग पाना है,
इसी बहाने झाड़ू पोछा करवाना है।
कोरोना ने भाई को बहनजी बनाया है,
बहुत से ऋषि मुनियों को जन्माया है।
महिलाओं को मास्टर शेफ बनाया है,
लॉकडाउन में खाना-खजाना याद दिलाया है।
कोरोना ने महिलाओं को ऑनलाइन रेसिपी पढ़ना सिखाया है,
पतियों को भी गृह कार्य में दक्ष बनाया है।
दिन-रात व्हात्सप्प, फेसबूक पर समय खराब करना है,
और पुछते रहना है क्या काम करना है।
बाहर गए तो पीटकर आना है,
अधिक समय घर में आलस्य खाना है।
हर दिन नेट का डाटा उड़ाना है,
और पूरा दिन आराम फरमाना है।
पत्नियों का टेंशन बढ़ने लगा है,
पतियों का गोरा होना खलने लगा है।
कोरोना ऐसा कलयुग लाया है,
मैसेज ही आ सकते है पर मिलने न कोई आया है।
कोरोना ने सबको सात्विक बनाया है,
रामायण और महाभारत का मनन करना सिखाया है।
पत्नियाँ बुझी-बुझी नज़र आ रही है,
गपशप और शॉपिंग की कमी बता रही है।
कोरोना से बचाव में लॉकडाउन का निर्णय आया है,
पत्नी जी ने रोटी गोल बनाने का ऑर्डर फरमाया है।
इस बार ऐसा अप्रैल का महिना आया है,
जिसमें रविवार अपना अस्तित्व न बचा पाया है।

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 387 Views
You may also like:
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
Buddha Prakash
जीवन
जीवन
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*इसे त्यौहार कहते हैं (मुक्तक)*
*इसे त्यौहार कहते हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
ए जिंदगी….
ए जिंदगी….
Dr Manju Saini
पितृसत्ता का षड्यंत्र
पितृसत्ता का षड्यंत्र
Shekhar Chandra Mitra
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।
Manisha Manjari
✍️चश्म में उठाइये ख़्वाब...
✍️चश्म में उठाइये ख़्वाब...
'अशांत' शेखर
A Donkey and A Lady
A Donkey and A Lady
AJAY AMITABH SUMAN
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
क्षमा
क्षमा
Saraswati Bajpai
"काँच"
Dr. Kishan tandon kranti
☘️🍂🌴दे रही है छाँव तुमको जो प्रेम की🌴🍂☘️
☘️🍂🌴दे रही है छाँव तुमको जो प्रेम की🌴🍂☘️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
बहुत वो साफ सुधरी ड्रेस में स्कूल आती थी।
विजय कुमार नामदेव
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ना चराग़ मयस्सर है ना फलक पे सितारे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
गुफ्तगू की अहमियत ,                                       अब क्या ख़ाक होगी ।
गुफ्तगू की अहमियत , अब क्या ख़ाक होगी ।
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
देवता कोई न था
देवता कोई न था
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पल भर की खुशी में गम
पल भर की खुशी में गम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ एक विचार : नेक विचार
■ एक विचार : नेक विचार
*Author प्रणय प्रभात*
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
हर तरफ़ आज दंगें लड़ाई हैं बस
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
कल तक थे वो पत्थर।
कल तक थे वो पत्थर।
Taj Mohammad
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
सोच एक थी, दिल एक था, जान एक थी,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
स्वाद अच्छा है - डी के निवातिया
स्वाद अच्छा है - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
आंखों के दपर्ण में
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
बेटियां
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्यार
प्यार
विशाल शुक्ल
लेट्स मि लिव अलोन
लेट्स मि लिव अलोन
gurudeenverma198
सजल
सजल
Rashmi Sanjay
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सबसे करीब दिल के हमारा कोई तो हो।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...