Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 23, 2022 · 1 min read

कोरोना – इफेक्ट

अति सूक्ष्म एक जीव है,
मचाये सकल जगत उत्पात।
विपरीत हैं परिस्थितियाँ,
किन्तु हास्य के हैं हालात।
माहौल था कोरोना का,
चढ़ी एक दूल्हे की बारात।
मास्क लगा दूल्हे के मुँह पर,
बाराती भी इसी वेष में साथ।
खिसियाया सा दूल्हा बोला –
पिताजी, कैसी शादी, क्या बारात?
ऐसा लग रहा जैसे लूट के लिये,
निकला हो डकैतों का दल आज।

रचनाकार :- कंचन खन्ना, कोठीवाल नगर,
मुरादाबाद, ( उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- ०३/०५/२०२१.

77 Views
You may also like:
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
पिता
Shailendra Aseem
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
बरसात
मनोज कर्ण
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
बंदर भैया
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
Loading...