Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

कोई हमारा ना हुआ।

जिंदगी रोती रहीं अश्क बहते रहे।
कोई हमारा ना हुआ हम किसी के ना हुए।।1।।

हम सफर में जहां के तहां ही रहे।
लोग आते गए और वह आगे निकलते गए।।2।।

अजनबियों के संग थे क्या कहते।
लोगो के हुजूम में हमको मेहरबा ना मिले।।3।।

कहीं तो होगा वह मकतब लोगों।
जहां ये दोनों ज़मीं और आसमा जा मिले।।4।।

कारोबार में माहिर हो तुम बड़े।
तभी तो यूं तिजारत के बादशाह बन गए ।।5।।

ये रिश्ते नाते सब झूठे लगते है।
वफा के बदले हमको बस बेवफ़ा ही मिले।।6।।

जिंदगी में इत्तेफाक भी होते है।
लोगो ने पूजा और यूं पत्थर खुदा बन गए।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

121 Views
You may also like:
मैं तो अकेली चलती चलूँगी ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
मत्तगयंद सवैया ( राखी )
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दर्द
Anamika Singh
कारस्तानी
Alok Saxena
योग छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
अंदाज मस्ताना
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुहब्बत का मसीहा:खलील जिब्रान
Shekhar Chandra Mitra
✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
'अशांत' शेखर
गुनाह ए इश्क।
Taj Mohammad
" हाथी गांव "
Dr Meenu Poonia
समय ।
Kanchan sarda Malu
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
*हाय पैसा* 【 *कुंडलिया* 】
Ravi Prakash
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
महिला काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
जब पंखुड़ी गिरने लगे,
Pradyumna
मानवता
Dr.sima
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दुःस्वप्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंग-बिरंगी तितली
Buddha Prakash
ख्वाहिश
अमरेश मिश्र 'सरल'
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
ख़्वाब पर लिखे कुछ अशआ'र
Dr fauzia Naseem shad
मजदूर -भाग -एक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आधुनिक काल के महानतम् गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन्"
Pravesh Shinde
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
नज़र से नज़र
Dr. Sunita Singh
Loading...