#12 Trending Author
May 12, 2022 · 1 min read

कोई हमारा ना हुआ।

जिंदगी रोती रहीं अश्क बहते रहे।
कोई हमारा ना हुआ हम किसी के ना हुए।।1।।

हम सफर में जहां के तहां ही रहे।
लोग आते गए और वह आगे निकलते गए।।2।।

अजनबियों के संग थे क्या कहते।
लोगो के हुजूम में हमको मेहरबा ना मिले।।3।।

कहीं तो होगा वह मकतब लोगों।
जहां ये दोनों ज़मीं और आसमा जा मिले।।4।।

कारोबार में माहिर हो तुम बड़े।
तभी तो यूं तिजारत के बादशाह बन गए ।।5।।

ये रिश्ते नाते सब झूठे लगते है।
वफा के बदले हमको बस बेवफ़ा ही मिले।।6।।

जिंदगी में इत्तेफाक भी होते है।
लोगो ने पूजा और यूं पत्थर खुदा बन गए।।7।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

13 Views
You may also like:
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता की सीख
Anamika Singh
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
आज कुछ ऐसा लिखो
Saraswati Bajpai
औरतें
Kanchan Khanna
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
poem
पंकज ललितपुर
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
'माँ मुझे बहुत याद आती हैं'
Rashmi Sanjay
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
काँटे .. ज़ख्म बेहिसाब दे गये
Princu Thakur "usha"
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
मैं चिर पीड़ा का गायक हूं
विमल शर्मा'विमल'
जला दिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
Loading...