Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-266💐

कोई साज़िश बनाई जा रही होगी,
आधा फँसा था इसे फँसाओ पूरा।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
"सस्ते" लोगों से
*Author प्रणय प्रभात*
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
तूफां से लड़ता वही
तूफां से लड़ता वही
Satish Srijan
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
दिलो को जला दे ,लफ्ज़ो मैं हम वो आग रखते है ll
गुप्तरत्न
ज़िन्दगी की राह
ज़िन्दगी की राह
Sidhartha Mishra
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
नल बहे या नैना, व्यर्थ न बहने देना...
इंदु वर्मा
अवसान
अवसान
Shyam Sundar Subramanian
"तब्दीली"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Ajj purani sadak se mulakat hui,
Sakshi Tripathi
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
पैसे का खेल
पैसे का खेल
Shekhar Chandra Mitra
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
*😊 झूठी मुस्कान 😊*
प्रजापति कमलेश बाबू
मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)
मैथिली हाइकु कविता (Maithili Haiku Kavita)
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
ज़िंदगी तेरे सवालों के
ज़िंदगी तेरे सवालों के
Dr fauzia Naseem shad
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
💞 रंगोत्सव की शुभकामनाएं 💞
Dr Manju Saini
💐प्रेम कौतुक-358💐
💐प्रेम कौतुक-358💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
*पुरानी पुस्तकें जग में, सदा दुर्लभ कहाती हैं (मुक्तक)*
*पुरानी पुस्तकें जग में, सदा दुर्लभ कहाती हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
काँच और पत्थर
काँच और पत्थर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
Rj Anand Prajapati
एक उलझा सवाल।
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
शक्ति का पूंजी मनुष्य की मनुष्यता में है।
प्रेमदास वसु सुरेखा
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
🏄तुम ड़रो नहीं स्व जन्म करो🏋️
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"मेरे किसान बंधु चौकड़िया'
Ms.Ankit Halke jha
विद्या:कविता
विद्या:कविता
rekha mohan
Loading...