Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2016 · 1 min read

कोई शिकवा न गिला

कोई शिकवा न गिला चाहती है
ज़िन्दगी तेरी रज़ा चाहती है

आज की रात अमावस जैसी
तेरे चेहरे से ज़या चाहती है

अश्क़े ग़म आहो फुगाँ तन्हाई
जाने क्या जाने वफ़ा चाहती है

वो मिरी माँ है मिरे हिस्से मेहर घड़ी रब से दुवा चाहती है

ज़ख्मे उल्फत है भरे तो कैसै
चोट गहरी है दवा चाहती है

मौत आकर मुझे आलिंगन कर
ज़िन्दगी रूप नया चाहती है

मै भी इक ऐसा दिया हूँ आज़म
,जिन चिरागो को हवा चाहती है याक़ूब आज़म……….0789793216021 August 2013 at 13:26·

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 292 Views
You may also like:
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
Rain (wo baarish ki yaadein)
Nupur Pathak
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
ऋतु
Alok Saxena
आँखों में प्यार बसाओ।
Buddha Prakash
■ सामयिक चिंतन
प्रणय प्रभात
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
22 दोहा पहेली
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
अनाथ
Kavita Chouhan
इश्क करके हमने खुद का तमाशा बना लिया है।
Taj Mohammad
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
पिता
कुमार अविनाश केसर
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
सावन में एक नारी की अभिलाषा
Ram Krishan Rastogi
✍️चीते की रफ़्तार
'अशांत' शेखर
'देवरापल्ली प्रकाश राव'
Godambari Negi
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
*बोर हो गए घर पर रहकर (बाल कविता/ गीतिका )*
Ravi Prakash
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
खुद को न मिटने दो
Anamika Singh
9 इंच ज्यादा या 5+5 इंच !!
Rakesh Bahanwal
आजमाते रहिए
shabina. Naaz
सोचना है तो मेरे यार इस क़दर सोचो
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वो मुझे फिर उदास कर देगा
Dr fauzia Naseem shad
प्यार -ए- इतिहास
Nishant prakhar
फ़साने तेरे-मेरे
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...