Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-326💐

कोई लज्ज़त न मिली उनकी बातों में,
इक मुलाक़ात भी न हुई कभी बातों में,
सौदागर हैं दिल के,नज़र में समाए हुए हैं,
मेरे एतिबार की हद तय कर दी बातों में।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
माॅ प्रकृति
माॅ प्रकृति
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अपना अपना आवेश....
अपना अपना आवेश....
Ranjit Tiwari
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
*Author प्रणय प्रभात*
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐उन्होंने हाथ बढ़ाया ही नहीं कभी💐
💐उन्होंने हाथ बढ़ाया ही नहीं कभी💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
नशे में फिजा इस कदर हो गई।
लक्ष्मी सिंह
सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो ।
सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो ।
Chaurasia Kundan
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
*हम आजाद होकर रहेंगे (कहानी)*
Ravi Prakash
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
कण-कण में श्रीराम हैं, रोम-रोम में राम ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️जन्मदिन✍️
✍️जन्मदिन✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
ताला-चाबी
ताला-चाबी
Buddha Prakash
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
कुत्ते की व्यथा
कुत्ते की व्यथा
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
कहती गौरैया
कहती गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
सबके ही आशियानें रोशनी से।
सबके ही आशियानें रोशनी से।
Taj Mohammad
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
ढलती उम्र का जिक्र करते हैं
Harminder Kaur
सोलह श्रृंगार
सोलह श्रृंगार
Shekhar Chandra Mitra
Pardushan
Pardushan
ASHISH KUMAR SINGH
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
माँ से बढ़कर नहीं है कोई
जगदीश लववंशी
कमर तोड़ता करधन
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
सफल होना चाहते हो
सफल होना चाहते हो
Krishan Singh
Loading...