Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-285💐

कोई मुश्किल है क्या इक मुलाक़ात के लिए,
इंतिज़ार ही ज़बाब है, इक सवाल के लिए।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
4-मेरे माँ बाप बढ़ के हैं भगवान से
Ajay Kumar Vimal
■ देसी ग़ज़ल...
■ देसी ग़ज़ल...
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन में समय होता हैं
जीवन में समय होता हैं
Neeraj Agarwal
मनुआँ काला, भैंस-सा
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
नदी जिस में कभी तुमने तुम्हारे हाथ धोएं थे
Johnny Ahmed 'क़ैस'
सत्य भाष
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
कविता-शिश्कियाँ बेचैनियां अब सही जाती नहीं
Shyam Pandey
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
याद करेगा कौन फिर, मर जाने के बाद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
In the end
In the end
Vandana maurya
तो पिता भी आसमान है।
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
"आधुनिक काल के महानतम् गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन्"
Pravesh Shinde
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
कोई तो कोहरा हटा दे मेरे रास्ते का,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
✍️डर काहे का..!✍️
✍️डर काहे का..!✍️
'अशांत' शेखर
बेटियां
बेटियां
Madhavi Srivastava
परिवर्तन विकास बेशुमार
परिवर्तन विकास बेशुमार
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2356.पूर्णिका
2356.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Umender kumar
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
अपने सुख के लिए, दूसरों को कष्ट देना,सही मनुष्य पर दोषारोपण
विमला महरिया मौज
Inspiration - a poem
Inspiration - a poem
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
कमीना विद्वान।
कमीना विद्वान।
Acharya Rama Nand Mandal
बदलाव
बदलाव
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
मेरे दिल के करीब
मेरे दिल के करीब
Dr fauzia Naseem shad
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
"खुद के खिलाफ़"
Dr. Kishan tandon kranti
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
I was sailing my ship proudly long before your arrival.
Manisha Manjari
चाँदनी में नहाती रही रात भर
चाँदनी में नहाती रही रात भर
Dr Archana Gupta
मन की बात
मन की बात
Shekhar Chandra Mitra
Loading...