Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-246💐

कोई बात है क्या वो नाराज़ क्यों हैं?
डरा है दिल तसव्वुर अभी रोके रखना।।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
60 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
पिता
पिता
Kanchan Khanna
In lamho ko kaid karlu apni chhoti mutthi me,
In lamho ko kaid karlu apni chhoti mutthi me,
Sakshi Tripathi
रिश्ते बनाना आसान है
रिश्ते बनाना आसान है
shabina. Naaz
उसकी अदा
उसकी अदा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शब्द सारे ही लौट आए हैं
शब्द सारे ही लौट आए हैं
Ranjana Verma
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
Aditya Prakash
💐प्रेम कौतुक-510💐
💐प्रेम कौतुक-510💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बेरोजगारी।
बेरोजगारी।
Anil Mishra Prahari
तेरे नाम पर बेटी
तेरे नाम पर बेटी
Satish Srijan
इंतजार करना है।
इंतजार करना है।
Anil chobisa
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
टैगोर
टैगोर
Aman Kumar Holy
खुदा पर है यकीन।
खुदा पर है यकीन।
Taj Mohammad
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
मेरी माँ......
मेरी माँ......
Awadhesh Kumar Singh
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
*दलबदल कमीशन एजेंसी (हास्य व्यंग्य)*
*दलबदल कमीशन एजेंसी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
बाबा भीमराव अम्बेडकर परिनिर्वाण दिवस
Buddha Prakash
कान में रुई डाले
कान में रुई डाले
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जब तक हयात हो
जब तक हयात हो
Dr fauzia Naseem shad
■ दरकार एक नई आचार संहिता की...
■ दरकार एक नई आचार संहिता की...
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
फासीवाद के ख़तरे
फासीवाद के ख़तरे
Shekhar Chandra Mitra
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
कोई ज्यादा पीड़ित है तो कोई थोड़ा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...