Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2022 · 1 min read

कोई बात भी नहीं है।

कोई खैर-ओ-खबर मेरे यार की नही है।
जानें क्यों है रूठा कोई बात भी नही है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 70 Views
You may also like:
पिता
Manisha Manjari
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आस
लक्ष्मी सिंह
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
सवाल कोई नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श पिता
Sahil
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
Loading...