Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-123💐

कोई तरक़ीब बची है इश्क़ को झूठा कर दो,
उनके दिल में समाया हूँ, राज़दाँ हूँ उसका।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
कोरोना दोहा एकादशी
कोरोना दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*शोध प्रसंग : क्या महाराजा अग्रसेन का रामपुर (उत्तर प्रदेश) में आगमन हुआ था ?*
*शोध प्रसंग : क्या महाराजा अग्रसेन का रामपुर (उत्तर प्रदेश) में आगमन हुआ था ?*
Ravi Prakash
शहर
शहर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इज़हार - ए - मोहब्बत
इज़हार - ए - मोहब्बत
Skanda Joshi
क्षमा एक तुला है
क्षमा एक तुला है
Satish Srijan
चार काँधे हों मयस्सर......
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
क्यों न्यौतें दुख असीम
क्यों न्यौतें दुख असीम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
पिता
पिता
pradeep nagarwal
लाख मिन्नते मांगी ......
लाख मिन्नते मांगी ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चमकते तारों में हमने आपको,
चमकते तारों में हमने आपको,
Ashu Sharma
लोकतंत्र में तानाशाही
लोकतंत्र में तानाशाही
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिल की बात,
दिल की बात,
Pooja srijan
"मैं एक कलमकार हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
2324.पूर्णिका
2324.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहे ( मजदूर दिवस )
दोहे ( मजदूर दिवस )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
💐प्रेम कौतुक-478💐
💐प्रेम कौतुक-478💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
मौन मंजिल मिली औ सफ़र मौन है ।
Arvind trivedi
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रेम
प्रेम
Dr. Shailendra Kumar Gupta
वक्त
वक्त
Namrata Sona
जीवन मे एक दिन
जीवन मे एक दिन
N.ksahu0007@writer
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
पारो
पारो
Acharya Rama Nand Mandal
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
■ नेक सलाह
■ नेक सलाह
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी ख़्वाहिश
मेरी ख़्वाहिश
Dr fauzia Naseem shad
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
भय की आहट
भय की आहट
Buddha Prakash
Loading...