Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 26, 2022 · 1 min read

कोई चाहने वाला होता।

काश अपना भी कोई चाहने वाला होता।
हम भी ना बिगड़ते कोई संभालने वाला होता।।1।।

हम भी किसी की दिली चाहत बन जाते।
अपना भी कोई हर ख़्वाब सजाने वाला होता।।2।।

यूं ना होते इतने गुमसुम तन्हा जिंदगी में।
काश हमको भी कोई एक हंसाने वाला होता।।3।।

हमें आदत ना लगती मयखाने जाने की।
गर कोई साकी आंखों से पिलाने वाला होता।।4।।

किसीके हम भी दिलके अरमां बन जाते।
काश दुआओं में कोई हमे मांगने वाला होता।।5।।

ठोकर ना खाते रहते जिंदगी की राहों में।
फूलो से महकते गर हमारा भी बागवां होता।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

3 Likes · 6 Comments · 71 Views
You may also like:
*#सिरफिरा (#लघुकथा)*
Ravi Prakash
कुछ ना बाकी है उसकी नजरों से।
Taj Mohammad
समझता नहीं कोई
Dr fauzia Naseem shad
मुकरियां __नींद
Manu Vashistha
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पूर्ण विराम से प्रश्नचिन्ह तक
Saraswati Bajpai
पिता
Santoshi devi
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
पूँछ रहा है घायल भारत
rkchaudhary2012
✍️हमसे लिपट गये✍️
'अशांत' शेखर
कबसे चौखट पे उनकी पड़े ही पड़े
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" PILLARS OF FRIENDSHIP "
DrLakshman Jha Parimal
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
गुजरे लम्हे सुनो बहुत सुहाने थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
मेरे अल्फाज़...
"धानी" श्रद्धा
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
.✍️स्काई इज लिमिटच्या संकल्पना✍️
'अशांत' शेखर
कोई चाहने वाला होता।
Taj Mohammad
Loading...