Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-215💐

कोई किस्सा नहीं है कोई कहानी नहीं हैं,
वक़्त की अंजुमन में हर कोई गुलाम है।

©® अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार कर्ण
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
पत्नियों की फरमाइशें (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
नहीं चाहता
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
💐अज्ञात के प्रति-129💐
💐अज्ञात के प्रति-129💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#गद्य_छाप_पद्य
#गद्य_छाप_पद्य
*Author प्रणय प्रभात*
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
विचार मंच भाग -7
विचार मंच भाग -7
Rohit Kaushik
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
मेरी ख़्वाहिश वफ़ा सुन ले,
अनिल अहिरवार"अबीर"
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
*महॅंगी कला बेचना है तो,चलिए लंदन-धाम【हिंदी गजल/ गीतिका】*
Ravi Prakash
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
मेरे पिता
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
Taj Mohammad
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
थक गई हूं
थक गई हूं
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
टीवी मत देखिए
टीवी मत देखिए
Shekhar Chandra Mitra
किसान पर दोहे
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बापू
बापू
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।
हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।
लक्ष्मी सिंह
वाक़िफ न हो सके जो
वाक़िफ न हो सके जो
Dr fauzia Naseem shad
वो महक उठे ---------------
वो महक उठे ---------------
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
यह धरती भी तो
यह धरती भी तो
gurudeenverma198
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
बड़ा मायूस बेचारा लगा वो।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...