Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2023 · 1 min read

कोई उपहास उड़ाए …उड़ाने दो

कोई उपहास उड़ाए …उड़ाने दो
कोई आलोचना करे …करने दो

आप के भीतर कुछ तो खास है तभी वो
उपहास और आलोचना लिए पास है…..

🌱अधूरा ज्ञान🌱

94 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
*कागभुशुंडी जी नीले पर्वत पर कथा सुनाते (गीत)*
*कागभुशुंडी जी नीले पर्वत पर कथा सुनाते (गीत)*
Ravi Prakash
कोरोना
कोरोना
Arti Bhadauria
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
"भावुकता का तड़का।
*Author प्रणय प्रभात*
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
देने तो आया था मैं उसको कान का झुमका,
Vishal babu (vishu)
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
एक बार बोल क्यों नहीं
एक बार बोल क्यों नहीं
goutam shaw
Winning
Winning
Dr. Rajiv
इक दिन तो जाना है
इक दिन तो जाना है
नन्दलाल सुथार "राही"
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है
बिन गुनाहों के ही सज़ायाफ्ता है "रत्न"
गुप्तरत्न
भले हमें ना पड़े सुनाई
भले हमें ना पड़े सुनाई
Ranjana Verma
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
बड़ा ही हसीन होता है ये नन्हा बचपन
'अशांत' शेखर
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
seema varma
नैन फिर बादल हुए हैं
नैन फिर बादल हुए हैं
Ashok deep
शहीद की मां
शहीद की मां
Shekhar Chandra Mitra
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
इस मुकाम पे तुझे क्यूं सूझी बिछड़ने की
शिव प्रताप लोधी
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
बहुत दिनों के बाद उनसे मुलाकात हुई।
Prabhu Nath Chaturvedi
💐अज्ञात के प्रति-98💐
💐अज्ञात के प्रति-98💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"रंग भरी शाम"
Dr. Kishan tandon kranti
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
इश्क़ का पिंजरा ( ग़ज़ल )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
जिन्दगी है बगावत तो खुलकर कीजिए।
जिन्दगी है बगावत तो खुलकर कीजिए।
Ashwini sharma
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
रस्सी जैसी जिंदगी हैं,
Jay Dewangan
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
जीवन का सफ़र कल़म की नोंक पर चलता है
प्रेमदास वसु सुरेखा
खिड़की पर किसने बांधा है तोहफा
खिड़की पर किसने बांधा है तोहफा
Surinder blackpen
उसने कौन से जन्म का हिसाब चुकता किया है
उसने कौन से जन्म का हिसाब चुकता किया है
कवि दीपक बवेजा
नादान बनों
नादान बनों
Satish Srijan
Loading...