Oct 5, 2016 · 1 min read

कोई आज ..कोई चार दिन बाद

जिंदगी जितनी गुजरी है कुछ कमाने मे
उससे कहीं ज्यादा गुजरी है बहुत कुछ गवॉने मे

खून के रिश्ते जो बहुत प्यारे थे
जिंदगी जीने के सहारे थे
वो बेवक्त खुदा को भी प्यारे हो गए
जो कभी हमारे साथ थे
वो आज खुदा के पास हो गए ..

जिंदगी से तो डटकर मुकाबला कर ले
पर गर मौत ही गले लगा ले
तो इंसॉ किसपे भरोसा कर ले
सच ही तो है ..

पल की खबर नही
बरसों को संजोया है ….

कब जिंदगी का दामन छूट जाए
कब मौत की आगोश मे डूब जाए ..
वक्त की तलवार सबके सिर पर लटक रही
कोई आज ..कोई चार दिन बाद …..
अटल सच्चाई ..

158 Views
You may also like:
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
कहां जीवन है ?
Saraswati Bajpai
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
💐मौज़💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सलाम
Shriyansh Gupta
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
"ईद"
Lohit Tamta
टूटता तारा
Anamika Singh
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌺🌺प्रेम की राह पर-9🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Saraswati Bajpai
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam मन
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr. Alpa H.
Loading...