Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कैफ़ियत

अहमियत खुद की बढ़ा ले और ले आ हैसियत।
फिर देख बदलती है ,आदमी की कैसी कैफ़ियत।
-सिद्धार्थ पाण्डेय

1 Like · 240 Views
You may also like:
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जानें किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
"अशांत" शेखर
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr.Alpa Amin
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
बदलती परम्परा
Anamika Singh
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"तुम हक़ीक़त हो ख़्वाब हो या लिखी हुई कोई ख़ुबसूरत...
Lohit Tamta
तेरा यह आईना
gurudeenverma198
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
'बेटियाॅं! किस दुनिया से आती हैं'
Rashmi Sanjay
✍️औरत हूँ ✍️
"अशांत" शेखर
मेरा कृष्णा
Rakesh Bahanwal
वक्त लगता है
Deepak Baweja
नागफनी बो रहे लोग
शेख़ जाफ़र खान
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
तेरा जां निसार।
Taj Mohammad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शिकायत कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
सीख
Anamika Singh
इरादा
Shivam Sharma
जन्म दिन की बधाई..... दोस्त को...
Dr.Alpa Amin
अजब रिकार्ड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज फिर मैं
gurudeenverma198
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...