Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 1, 2022 · 2 min read

कैसे समझाऊँ तुझे…

कैसे समझाऊँ तुझे के,
मेरी खामोशी क्या कहती हैं तुमसे…

तुम हर बार जो लफ्जों के बाणों का
प्रहार कर के निकल जाते हो न
बहुत अंदर तक चूब जाते हैं सारे
इतने अंदर तक के
मुझको अक्सर नि:शब्द ही बना कर छोड़ जाते है…

शायद नहीं जानती हूँ के तुम
किस पल क्या सोच रहें होते हो,
शायद नहीं समझ सकती तुम्हारे स्वभाव को के
तुम किस पल क्या मुझसे चाहते हो,
हर बार कुछ सुकुन के पल तुमसे चाहे है बस
लेकिन
बातें हमारी अक्सर तकरारों में ही खत्म हो जाती हैं,
जानती हूँ के तुम मेरे किसी भी दर्द के मरहम नहीं बनना चाहोगे
फिर भी ना जाने क्यूँ
दिल को तुमसे लगाव हैं
लेकिन हर बार तुम अपने मर्द होने का अधिकार
मेरी मुस्कुराहट पर लाद देते हो…

चेहरे को मेरे पढ़कर
पूछा करते हो अक्सर परेशान क्यूँ रहती हूँ मैं
लेकिन कभी अपनी जिद्द से बाहर आकर तुम
मेरी परेशानियों को कहने से पहले समझ सकते
जानती हूँ तुमने अक्सर बस मजबूरी ही समझा हैं मुझे
तुम कभी अपने होने के हक्क से मिलने आ ही नही सकते हो न
बस कुछ पल के लिए वक्त गुजारने का
आकर्षिक वस्तु तो नहीं हूँ ना मैं
शिकायत करूँ तुमसे तो किस हक्क से करूँ
ना तो इश्क हूँ तुम्हारा .. ना ही महबूबा…

हर पल तो तुमने झूठ और फरेब ही है समझा मुझे
या फिर मेरे स्वभाव में पागलपन ही दिखता रहा तुमको
लेकिन किसी भी बातों या हरकतों में
तुमने अपने लिए मेरा अपनापन और हक्क देख नहीं पाये न
शायद देखा भी होगा तुमने
लगा होगा पैर की जंजीर बन जाऊँगी मैं
लेकिन इज्जत की पगड़ी भी बन जाती
ये कभी सोच भी ना सकें तुम
किस बात पर रूँठ जाऊँ तुमसे
जो तुम स्वार्थ हो .. और मैं चुतियापा…

इब उदासी तुम पर अच्छी नहीं लगती
हँसना और हँसना चाहा था साथ मिलकर
ना बीते कल में .. और ना ही आनेवाले कल में
अब में जीने की कोशिश करना चाहती रहीं
रहना तो चाहा था तुम्हारे पास
लेकिन
बस….एक बार सहीं कह सकोगे?
कितनी बार लौट आना होगा
तेरे हर बार ठुकराने के बाद…….
#ks

1 Like · 1 Comment · 100 Views
You may also like:
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
घर आंगन
शेख़ जाफ़र खान
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
🍀🌺प्रेम की राह पर-42🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुत्ते भौंक रहे हैं हाथी निज रस चलता जाता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
इश्क।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
" महिलाओं वाला सावन "
Dr Meenu Poonia
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️एक आफ़ताब ही काफी है✍️
"अशांत" शेखर
शब्दों से परे
Mahendra Rai
“ विश्वास की डोर ”
DESH RAJ
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
✍️टिकमार्क✍️
"अशांत" शेखर
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
मां बाप की दुआओं का असर
Ram Krishan Rastogi
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
खिला प्रसून।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Ye Sochte Huye Chalna Pad Raha Hai Dagar Main
Muhammad Asif Ali
बुध्द गीत
Buddha Prakash
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
Loading...