Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

कैसे ईद मनाये…??

कैसे ईद मनाये…??

रमज़ान के पाक महीने मे
इस्लाम के नाम पर जब
खूनी खेल खेला जाये
किसी के घर के चिराग को
आतंक का साया खा जाये
बदरंग हो सफेद पौशाक
कफ़न मे तब्दील हे जाये
खौफ के गमजदा माहौल में
भला कोई कैसे ईद मनाये….!
भला कोई कैसे ईद मनाये…।!



डी. के. निवातियॉ…….. ….!!!

Language: Hindi
1 Comment · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
Books from डी. के. निवातिया
View all
You may also like:
*अक्षय तृतीया*
*अक्षय तृतीया*
Shashi kala vyas
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
साँझ ढल रही है
साँझ ढल रही है
अमित नैथानी 'मिट्ठू' (अनभिज्ञ)
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
खुदाया करम इन पे इतना ही करना।
सत्य कुमार प्रेमी
रामफल मंडल (शहीद)
रामफल मंडल (शहीद)
Shashi Dhar Kumar
6-
6- "अयोध्या का राम मंदिर"
Dayanand
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
पूरे शहर का सबसे समझदार इंसान नादान बन जाता है,
Rajesh Kumar Arjun
तेरे बिन
तेरे बिन
Harshvardhan "आवारा"
मुबारक हो।
मुबारक हो।
Taj Mohammad
माँ दुर्गा।
माँ दुर्गा।
Anil Mishra Prahari
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
✍️फिर भी लगाव✍️
✍️फिर भी लगाव✍️
'अशांत' शेखर
भगतसिंह:एक मुक्त चिंतक
भगतसिंह:एक मुक्त चिंतक
Shekhar Chandra Mitra
बरसाती कुण्डलिया नवमी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
हर बार तुम गिरोगे,हर बार हम उठाएंगे ।
Buddha Prakash
दो कदम का फासला ही सही
दो कदम का फासला ही सही
goutam shaw
क्षमा याचना दिवस
क्षमा याचना दिवस
Ram Krishan Rastogi
गुजरे लम्हे सुनो बहुत सुहाने थे
गुजरे लम्हे सुनो बहुत सुहाने थे
VINOD KUMAR CHAUHAN
हम मुलाक़ात कर नहीं सकते
हम मुलाक़ात कर नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
जीवन दिव्य बन जाता
जीवन दिव्य बन जाता
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जीवन की तलाश
जीवन की तलाश
TARAN SINGH VERMA
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
मुझें ना दोष दे ,तेरी सादगी का ये जादु
Sonu sugandh
********* कुछ पता नहीं *******
********* कुछ पता नहीं *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
गीत
गीत
Shiva Awasthi
Loading...