Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 13, 2017 · 2 min read

कैकयी

मैं कैकयी हूँ मेरा मेरा दर्द तुम क्या जानो
एक स्त्री की पीड़ा को भला तुम क्या जानो
जिसे ह्रदय में पथ्थर रखकर भेजा था वन
वो मेरा पुत्र राम था ये सब तुम क्या जानो

माँ की ममता तड़पी है ये तुम क्या जानो
अधर्म मुक्त करनी थी धरती ये तुम क्या जानो
रघुकुल का सम्मान मुकुट था पापी के पास
जानते हुये भी ये सब भला तुम क्या जानो

क्या बीती होगी मुझ माँ पर ये तुम क्या जानो
कैसे भेजा होगा नयनों प्यारा वन ये क्या जानो
मैं कलंकिनी हूँ कुलटा हूँ औऱ क्या कहते हो
मैं दिये की बत्ती सी जली ये तुम क्या जानो

पिया है मैंने भी हलाहल ये तुम क्या जानो
रोयी हूँ मैं भी पल पल ये सब क्या जानो
भरत से भी प्रिय था मुझे मेरा प्यारा राम
भला दुनियाँ में ये सब कुछ तुम क्या जानो

मैंने भी किया है त्याग भला तुम क्या जानो
मान प्रतिष्ठा सब धूमिल की है ये क्या जानो
मै ठहरी एक अभागिन अबला निर्बल स्त्री
इस स्त्री की व्यथा को तुम सब क्या जानो

रघुकुल की आबरू बचानी थी तुम क्या जानो
मुकुट बिन बेकार सब तैयार थी ये क्या जानो
अपने प्राणों से प्रिये राम को भेजा था वन में
वहाँ मेरा बेटा था ये सबकुछ तुम क्या जानो

मैं अभागिन कैकयी हूँ मुझे तुम क्या जानो
जली हूँ अग्नि कुंड सी तुम क्या पहिचानो
शिव की तरह पीकर हलाहल नीलकंठ न हुई
हो गई हूँ गुमनाम मुझे तुम क्या पहिचानो

मैं बेबसी हूँ उदासी की सखी हूँ तुम क्या जानो
मैं भी एक औरत हूँ भला मुझे तुम क्या जानो
किस तरह भेजा है 14 वर्ष वन में पुत्र को
ये पीड़ा भला माँ के सिवा तुम क्या जानो

ऋषभ परेशान है तुम्हारे लिये तुम क्या जानो
कैकयी की वेदना को भी तुम क्या जानो
अधर्म को मिटाकर रामराज्य लाना था उसे
इस त्याग की कहानी को तुम क्या जानो

1 Like · 342 Views
You may also like:
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Saraswati Bajpai
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पिता
Meenakshi Nagar
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
कर्म का मर्म
Pooja Singh
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
संत की महिमा
Buddha Prakash
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
Loading...