Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 22, 2022 · 1 min read

कृष्ण पक्ष// गीत

तुम्हें देखने वाली लड़की कृष्ण पक्ष में क्या करती है ?
चाँद कभी सोचा है तुमने ?

जब पेड़ो के झुरमुट में भी भूतों की शक्लें दिखतीं हैं।
जब आँखें उम्मीद सजाए तारों को गिनने लगतीं हैं।
जब अनजाने पंछी का स्वर उसका ध्यान तोड़ देता है।
जब आहट होने पर कोई साया तलक नहीं दिखता है।

तब भी आधी रात अकेली, छत पर क्यों बैठी रहती है ?
चाँद कभी सोचा है तुमने ?

जब उसकी मुकरी सी बातें सखियां समझ नहीं पातीं हैं।
जब उसका बचपना देखकर मम्मी दुनिया समझातीं हैं।
जब उसको खुद अपना ही मन बिल्कुल समझ नहीं आता है।
जब उसकी अनमनी दृष्टि में सबकुछ बेरंग हो जाता है।

तब तिथियों के कैलेंडर में, जाने क्या ढूँढा करती है ?
चाँद कभी सोचा है तुमने ?

चाँद तुम्हें तो मालूम है न, कितनी बड़ी हो गयी है वो।
दुनियाभर के तौर तरीकों में अब खरी हो गयी है वो।
लेकिन चंदा उसके मन की चंचलता भी तुम्हें पता है।
उसके मन के भीतर अब भी निश्छल बचपन छुपा हुआ है।

पढ़ने से कतराने वाली, तुमको मन से क्यों पढ़ती है।
चाँद कभी सोचा है तुमने ?
– shiva awasthi

20 Views
You may also like:
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
हरीतिमा स्वंहृदय में
Varun Singh Gautam
परदेश
DESH RAJ
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
तपिश
SEEMA SHARMA
जम्हूरियत
बिमल
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
Nurse An Angel
Buddha Prakash
رہنما مل گیا
अरशद रसूल /Arshad Rasool
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
मजदूर
Anamika Singh
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
फरियाद
Anamika Singh
आईना पर चन्द अश'आर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Save the forest.
Buddha Prakash
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...