Sep 10, 2016 · 1 min read

कृष्ण-जन्म

अँधियारे का पक्ष, भाद्रपदी शुभ अष्टमी,
बंदीगृह का कक्ष, जगमग आलोकित हुआ..

धरि शिशुरूप सहज हो नाता. सम्मुख विष्णु उपस्थित माता..
नतमस्तक वसुदेव देवकी. स्वीकारें हरिरूप सेवकी..
लीलाधर हैं भाग्य विधाता. बंधनमुक्त हुए पितु-माता..
सुप्त अवस्था में सब प्रहरी, थी सम्पूर्ण व्यवस्था बहरी..
मनमोहक शिशु किलकत भावै, अपलक दृष्टि मातु सुख पावै..
आसन सूप शीश धरि हरि को. तब वसुदेव चले गोकुल को..
दर्शन करि सब देव सरसते. मुदित मेघ घनघोर बरसते..
यमुना पार मगन मन जाना. शेषनाग फन छतरी ताना..
हरि चरनन की प्यासी यमुना. मुदित बढ़ें डूबन को नथुना.
यह लखि कान्ह पाँव लटकावा. पद पखारि जल नीचे आवा.
गोकुल नन्द धाम में माया. अदला-बदली धर्म सुहाया..
ले कन्या बंदीगृह आये. पुनि सब बंधन वापस पाये..

कंस आगमन तब हुआ. कन्या छीने दुष्ट.
पटका पत्थर पर तभी, हुई देवकी रुष्ट..
आसमान में जा उड़ा, माया का वह रूप.
जन्मा तेरा काल है, दुष्ट निर्दयी भूप..

घनघोर घन घिरि दामिनी संग, मेघ पुनि वर्षित हुए.
लखि रूप मोहन माँ यशोदा नन्द सब हर्षित हुए.
हरि सांवरे बन कान्ह किलकत भाग्य गोकुल का खिला.
शुचि प्रियतमा राधा सहित है आज सुख सबको मिला..

मने कृष्ण जन्माष्टमी, जपें कृष्ण का नाम.
नतमस्तक होकर उन्हें, कोटिश करें प्रणाम
________________________________________
रचनाकार–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

119 Views
You may also like:
यह कैसा एहसास है
Anuj yadav
दया करो भगवान
Buddha Prakash
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रसीला आम
Buddha Prakash
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
👌राम स्त्रोत👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
महाराणा का शौर्य
Ashutosh Singh
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H.
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
डरिये, मगर किनसे....?
मनोज कर्ण
You Have Denied Visiting Me In The Dreams
Manisha Manjari
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
Loading...