Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2022 · 1 min read

कूड़े के ढेर में भी

इस पेट की ज़रूरतें
मजबूरी न जानती हैं।
कूड़े के ढेर में भी ,
रिज़क को तलाशती हैं ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

7 Likes · 117 Views
You may also like:
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Santoshi devi
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Ram Krishan Rastogi
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...