Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2016 · 1 min read

कुन्डलियां :– सरहद (व्यंग) भाग -1 !!

कुन्डलियां :– सरहद -1!!

हद की सरहद लांघ कर ,
गदगद हुआ अधीर !

चार लाख जज्बात से ,
दुर्जन बना फ़कीर !!

दुर्जन बना फ़कीर ,
खीर को जी ललचाए !

टपकत लार अपार ,
घास कुछ रास न आए !!

कहे “अनुज” धर मान ,
प्रतिष्ठा ही ऐसा पद !

जुड़े भाव अनुकूल ,
तभी तो टूटे सरहद !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

2 Comments · 419 Views
You may also like:
प्रिय सुनो!
Shailendra Aseem
हिंदी हमारी शान है
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
✍️दिल में ही रहता हूं✍️
'अशांत' शेखर
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
💐 एक अबोध बालक 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अजीब मनोस्थिति "
Dr Meenu Poonia
गीत
धीरेन्द्र वर्मा "धीर"
सुनो ना
shabina. Naaz
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
Advice
Shyam Sundar Subramanian
ज़मीर का सौदा
Shekhar Chandra Mitra
तू बोल तो जानूं
Harshvardhan "आवारा"
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
डर होता है
Abhishek Pandey Abhi
*भाई-दूज कह रहा पावन प्रसंग आज (घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
एक अलग सी दीवाली
Rashmi Sanjay
तुम बहुत खूबसूरत हो
Anamika Singh
ज़िंदगी का सवाल रहता है
Dr fauzia Naseem shad
हे जग जननी !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दो पँक्ति दिल की कलम से
N.ksahu0007@writer
पिता
Neha Sharma
हमारा दिल।
Taj Mohammad
*"काँच की चूड़ियाँ"* *रक्षाबन्धन* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
आपकी याद
Abhishek Upadhyay
लड़ते रहो
Vivek Pandey
“मेरी ख्वाहिशें”
DrLakshman Jha Parimal
महिला दिवस दोहा नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...