Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

‘ कुदरत की चेतावनी ‘

ये बरखा बहार है
देती करार है
सूखी धरती पर
लोगों की आस पर
आशीर्वाद की फुहार है ,

इसका इंतज़ार है
दिल बेकरार है
तकती आँखों को
रूकती साँसों को
सूरज से तकरार है ,

कर्जे का बोझ है
पानी की खोज है
उम्मीद को जगाये
बीजों को भिगाये
हिम्मत और ओज है ,

शीश नमन है
मौसम का दमन है
अब तो बरसाओ
नही और तरसाओ
हमारा ये चमन है ,

गलती हमारी है
हाथ में आरी है
काटेगें पेड़ो को
खोदेगें जड़ों को
सबके भुगतने की बारी है ,

हुआ ये कहर है
करनी नई सहर है
परिस्थितियों से दहल जाओ
देखो तुम संभल जाओ
नही तो ज़हर है ।

स्वरचित , मौलिक एवं अप्रसारित
( ममता सिंह देवा , 30/05/2021 )

1 Like · 2 Comments · 295 Views
You may also like:
हिसाब मोहब्बत का।
Taj Mohammad
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
*बुढ़ापे में दूसरी शादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हौंसलों की कमी नहीं लेकिन ।
Dr fauzia Naseem shad
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit kumar
*दही (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta
द्विराष्ट्र सिद्धान्त के मुख्य खलनायक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सलामत् रहे ....
shabina. Naaz
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
द्रौपदी मुर्मू'
Seema Tuhaina
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
रिश्तो में मिठास भरते है।
Anamika Singh
मज़ाक।
Taj Mohammad
मंजिल
Kanchan Khanna
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
तुम मेरे नसीब मे न थे
Anamika Singh
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
उम्रें गुज़र गई हैं।
Taj Mohammad
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
Loading...