Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 29, 2021 · 1 min read

‘ कुदरत का वरदान ‘

रिमझिम रिमझिम बारिश मन को भाये
गरजे जब बदरा मन मोरा घबराये ,

कड़कड़ाती बिजली जब चमक दिखाये
दूर कही जाकर ये ज़रूर गिर जाये ,

चमकती है ये पहले आवाज़ बाद में आये
जलकणों का घर्षण ये हमको दिखलाये ,

काली घनघोर घटा जब – जब घिर जाये
जन मानस को अपने घरों में समेट लाये ,

जब दो दिन कस कर मूसलाधार होये
तीसरे दिन फिर देखो सूरज की पुकार होये ,

जीवनदायनी बरसात जब धरा पर आये
चर – अचर सबको तृप्त ये कर जाये ,

कुदरत के वरदान से बारिश हमको मिल जाये
बदले में हमसे वो कुछ भी तो नही पाये ,

परेशान होकर जब वो हाहाकार मचाये
रक्षा करो प्रभु कहकर तब हम चिल्लायें ,

ये दुनिया क्षण भर में कुछ से कुछ कर जाये
कुदरत के आगे उसकी एक नही चल पाये ।

स्वरचित , मौलिक एवं अप्रसारित
( ममता सिंह देवा , 28/05/2021 )

2 Likes · 4 Comments · 268 Views
You may also like:
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
कहानियां
Alok Saxena
कहानी *"ममता"* पार्ट-5 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
बता कर ना जाना।
Taj Mohammad
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
खुद को न मिटने दो
Anamika Singh
“ गोलू क जन्म दिन “
DrLakshman Jha Parimal
रेत   का   घर 
Alok Saxena
अपनी कहानी
Dr.Priya Soni Khare
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
देख कर
Dr fauzia Naseem shad
कन्यादान लिखना भी कहानी हो गई
VINOD KUMAR CHAUHAN
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
हर लम्हा।
Taj Mohammad
✍️इरादे हो तूफाँ के✍️
"अशांत" शेखर
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
प्रेम पर्दे के जाने """"""""""""""""""""""'''"""""""""""""""""""""""""""""""""
Varun Singh Gautam
न्याय
Vijaykumar Gundal
योगी छंद विधान और विधाएँ
Subhash Singhai
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
"मायका और ससुराल"
Dr Meenu Poonia
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...