Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

[ कुण्डलिया]

नजर द्वार पर जा लगी , आए कंत की पतियां ।
विरहन के संग में जगी ,हिय हिलोरे बतियां ।।
हिय हिलोरे बतियां , श्रंगार तन का सूना ।
पीला रंग धरती रचे , चंदा आए आँगना ।।
बौरो पर कोयल कुके , भँवरा डोले क्यार ।
“जाफर” स्मृति में खोई , मोहन आए द्वार नजर ।।
===×==×==×==×==×==×==
आस लग जाऐ मनवां , रंग लाया मधुमास ।
सरसों फूली गात में , उर ले अति उल्लास ।।
उर ले अति उल्लास , प्राकृति पिया श्रँगार कर ।
अवनि-अंबर मुंदित , मधुऋतु का कर आभार ।।
पायल झंनके पाँव में ,गूँजे बंसती रास ।
सपनीला मन रंगों में , पिया मिलन की आस ।।
______-_______________

चलन अनोखा चल रहा , बिन घूस नहीं काज ।
पिस्सू बना पहलवान , जो जनता को राज ।।
जो जनता को राज , लूट सकौ दोनों हाथ ।
सेवक हुए स्वामी , दर्शाए जन-मन के साथ ।।
चोर मचाए शोर , विधि -विधान कारे दलन ।
गधा गुड़ खाए रहे , सियार बदल रहे चलन ।।
______________________________
शेख जाफर खान

5 Likes · 4 Comments · 202 Views
You may also like:
✍️हृदय में मिलेगा मेरा भारत महान✍️
'अशांत' शेखर
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
महादेवी वर्मा जी की वेदना
Ram Krishan Rastogi
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Accept the mistake
Buddha Prakash
समय
AMRESH KUMAR VERMA
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
पत्थर दिल।
Taj Mohammad
✍️हम सब है भाई भाई✍️
'अशांत' शेखर
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
✍️तलाश करो तुम✍️
'अशांत' शेखर
वक्त बदलता रहता है
Anamika Singh
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
इब्ने सफ़ी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माटी - गीत
Shiva Awasthi
किताब।
Amber Srivastava
" फ़ोटो "
Dr Meenu Poonia
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
खुदा ने जो दे दिया।
Taj Mohammad
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
“ मिलि -जुलि केँ दूनू काज करू ”
DrLakshman Jha Parimal
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
ईद अल अजहा
Awadhesh Saxena
Loading...