Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कुण्डलिया

मौसम
———–
कोहरा धुंध ले आया ,अवनि धरे नव रुप ।
सूरज चढ़ा मुड़ेर में , नखरे करती धूप ।।
नखरे करती धूप ,ओस धुलती तृण दल।
शीत लहर बल खाय, नभ छाए उजले बादल।
कह जाफर कविराय , मौसम मार से हारे ।
अरहर लगा तुषार , साग खा गये कोहरे ।।
****”****************************
बदले तेवर मौसम ने , तरणि का निकला दम।
हाड़ कांपे जाड़े में , ठुठरता जग आलम ।।
ठुठरता जग आलम, मानुष घरों में दुबके।
छत नहीं जिसके सिर , रोय हिय चुपके चुपके।।
दिन मास नहिं विश्राम , देश उनके दम मचले ।
किसान और जवान , दशा दोउकी न बदले ।।
****************””*****************
स्वरचित एवं मौलिक सर्वाधिकार सुरक्षित
शेख जाफर खान

4 Likes · 2 Comments · 275 Views
You may also like:
जिंदगी एक बार
Vikas Sharma'Shivaaya'
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
कब मेरी सुधी लोगे रघुराई
Anamika Singh
बताओ मुझे
Anamika Singh
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अक्सर सोचतीं हुँ.........
Palak Shreya
✍️खून-ए-इंक़िलाब नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
✍️आओ हम सोचे✍️
'अशांत' शेखर
दर्द से खुद को
Dr fauzia Naseem shad
पिता के होते कितने ही रूप।
Taj Mohammad
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
प्रणाम नमस्ते अभिवादन....
Dr.Alpa Amin
धुआं उठा है कही,लगी है आग तो कही
Ram Krishan Rastogi
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उन शहीदों की कहानी
gurudeenverma198
पिता पच्चीसी दोहावली
Subhash Singhai
परमात्मनः प्राप्तया: स्थानं हृदयम्
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदाई भरी पड़ी है।
Taj Mohammad
ग़ज़ल कहूँ तो मैं असद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
अभिलाषा
Anamika Singh
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी त्यौहार बंधन का - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
पराई
Seema Tuhaina
सूरत -ए -शिवाला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...