Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jul 11, 2016 · 1 min read

कुण्डलिया

बूँदे लेकर रसभरी , वसुधा को महकाय |
क्या है मन में मेघ के, कोई समझ न पाय ||
कोई समझ न पाय, किसे यह तर कर देगा,
कब तोड़ेगा आस, कहाँ जाकर बरसेगा,
नीरद करे निराश, न मन को सपने देकर,
बरसे रिमझिम नित्य, नृत्यरत बूँदे लेकर ||

बेसुध घन बरसा रहे, वहीँ अनवरत नीर |
जहाँ ह्रदय घायल पडा, सहता है नित पीर ||
सहता है नित पीर, विरह का पाला लेकर,
ख़ुशी गई है लौट , जिसे बस आँसू देकर,
उसे नहीं है काम, भिगोये क्योंकर वह तन,
जानें पर कब सत्य, बरसते ये बेसुध घन ||

~ अशोक कुमार रक्ताले.

1 Like · 4 Comments · 242 Views
You may also like:
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
तीन किताबें
Buddha Prakash
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
बंदर भैया
Buddha Prakash
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
Loading...