Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

कुण्डलिया

बिन मोबाइल हाथ में, रहे न ऊंची शान,
जपूँ फेस बुक रोज मैं, व्हाट्स एप में ध्यान।
व्हाट्स एप में ध्यान , दाल चूल्हे पर जलती,
साग नमक है तेज़, रोज साजन से ठनती।
लाइक सौ सौ बार, कॉमेन्ट करते स्माइल,
मुश्किल जीवन होय, तुम्हारे बिन मोबाइल।

दीपशिखा सागर-

348 Views
You may also like:
ख्वाब रंगीला कोई बुना ही नहीं ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*मुरली की तान देना (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
अच्छा लगता है।
Taj Mohammad
✍️जिद्द..!✍️
'अशांत' शेखर
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
मैं ख़ुद से बे-ख़बर मुझको जमाना जो भी कहे
VINOD KUMAR CHAUHAN
मन का पाखी…
Rekha Drolia
भाषा का सम्मान—पहचान!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
" चंद अश'आर " - काज़ीकीक़लम से
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
पृथ्वी दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" मीनू की परछाई रानू "
Dr Meenu Poonia
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनुरोध
Rashmi Sanjay
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
काश़ ! तुम मेरा
Dr fauzia Naseem shad
ज़रा सी बात पर ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
*if my identity is lost
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
जब तुम
shabina. Naaz
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
Feel The Love
Buddha Prakash
कैसे कितने चेहरे बदलकर
gurudeenverma198
क़फ़स
मनोज कर्ण
Loading...