Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2016 · 1 min read

कुण्डलिया

बिन मोबाइल हाथ में, रहे न ऊंची शान,
जपूँ फेस बुक रोज मैं, व्हाट्स एप में ध्यान।
व्हाट्स एप में ध्यान , दाल चूल्हे पर जलती,
साग नमक है तेज़, रोज साजन से ठनती।
लाइक सौ सौ बार, कॉमेन्ट करते स्माइल,
मुश्किल जीवन होय, तुम्हारे बिन मोबाइल।

दीपशिखा सागर-

218 Views
You may also like:
"ईद"
Lohit Tamta
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
✍️आओ गुल गुलज़ार वतन करे✍️
"अशांत" शेखर
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
हिन्दू साम्राज्य दिवस
jaswant Lakhara
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अगर तुम खुश हो।
Taj Mohammad
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
✍️आरसे✍️
"अशांत" शेखर
भारत बनाम (VS) पाकिस्तान
Dr.sima
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बचपन की यादें।
Anamika Singh
ढह गया …
Rekha Drolia
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नमन!
Shriyansh Gupta
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
एहसासों का समन्दर लिए बैठा हूं।
Taj Mohammad
माँ दुर्गे!
Anamika Singh
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
Loading...