Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कुण्डलिया

*कुण्डलिया*

सत्कर्मी पूँजी न ही , हृदय राम से प्यार।
निरा दंभ भ्रम पाप का ,खर सम ढोते भार।
खर सम ढोते भार, काल के हाथों पिटते।
चलते रहे कुमार्ग ,लेश नर- चरण न थकते।
गढ़ गढ़ नये कुपंथ, सत्य से हुए विधर्मी।
राम विमुख कहलाय, रहे खुद को सत्कर्मी?

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

3 Likes · 177 Views
You may also like:
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
कुछ काम करो
Anamika Singh
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
हर रोज योग करो
Krishan Singh
हमारा दिल।
Taj Mohammad
✍️कही हजार रंग है जिंदगी के✍️
"अशांत" शेखर
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
**मानव ईश्वर की अनुपम कृति है....
Prabhavari Jha
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H. Amin
कहानी को नया मोड़
अरशद रसूल /Arshad Rasool
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पहचान लेना तुम।
Taj Mohammad
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
कुछ कर गुज़र।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
पिता भगवान का अवतार होता है।
Taj Mohammad
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
Loading...