Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

कुण्डलिया- दारू

कुण्डलिया*

दारू में गुन बहुत है दारू करती ढ़ेर।
दारू से कई इक मिटे पार लगे न फेर।।

पार लगे न फेर, गृहस्थी चौपट हो गई।
आन,वान और शान, सभी धूरा में मिल गई।।

कह ‘राना:कविराय दारू है चाल बिगारू।
जो अपनों हित चाय,कभऊं न पीवें दारू।।

###

राजीव नामदेव “राना लिधौरी”
संपादक आकांक्षा पत्रिका
अध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ
अध्यक्ष वनमाली सृजन केन्द्र
नई चर्च के पीछे, शिवनगर कालोनी,
टीकमगढ़(म.प्र.)
मोबाइल -9893520965

164 Views
You may also like:
अप्सरा
Nafa writer
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
✍️कुछ राज थे✍️
'अशांत' शेखर
✍️थोडा रूमानी हो जाते...✍️
'अशांत' शेखर
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️वहम✍️✍️
'अशांत' शेखर
वक्त का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
आग
Anamika Singh
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
'अशांत' शेखर
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
खड़ा बाँस का झुरमुट एक
Vishnu Prasad 'panchotiya'
सरकारी नौकरी वाली स्नेहलता
Dr Meenu Poonia
प्यारा तिरंगा
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️फ़रिश्ता रहा नहीं✍️
'अशांत' शेखर
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
दुश्वारियां
Taj Mohammad
बेदर्दी बालम
Anamika Singh
गुरु के अनेक रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
तरबूज का हाल
श्री रमण 'श्रीपद्'
आफताबे रौशनी मेरे घर आती नहीं।
Taj Mohammad
इंतजार
Anamika Singh
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
'स्मृतियों की ओट से'
Rashmi Sanjay
मुहब्बत कभी तमाम ना होती है।
Taj Mohammad
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
✍️भरोसा✍️
'अशांत' शेखर
तेरा पापा... अपने वतन में
Dr. Pratibha Mahi
Loading...