Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

कुण्डलिया छंद

खिड़की को देखूँ कभी,कभी घड़ी की ओर,
नींद हमें आती नहीं ,कब होगी अब भोर।
कब होगी अब भोर ,खेलने हमको जाना,
मारें चौक्के छक्के, हवा में गेंद उड़ाना।
कह ‘अम्बर’ कविराय,पड़ोसन हम पर भड़की।
जोर जोर चिल्लाये ,देखकर टूटी खिड़की।
-अभिषेक कुमार अम्बर

2 Comments · 234 Views
You may also like:
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
पिता
Neha Sharma
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
पापा
सेजल गोस्वामी
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
पिता
Buddha Prakash
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
Loading...