Dec 31, 2016 · 1 min read

कुण्डलिया छंद

ठण्ड बड़ी भारी हुई,कटत नहीं दिन रेन.
कोहरा अपने चरम पर, कैसे पायें चैन.
कैसे पायें चैन, फैसला कौन करे अब.
जाड़े में बरसात , दिखाती हो आँखें जब.
कहें ‘सहज’ कविराय, बढ़ा जाड़े का घमंड.
है गरीब का मरण, सूर्य पर भारी ठण्ड.
@डॉ.रघुनाथ मिश्र ‘सहज’
अधिवक्ता/साहित्यकार
सर्वाधिकार सुरक्षित

146 Views
You may also like:
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
केंचुआ
Buddha Prakash
समय और रिश्ते।
Anamika Singh
An abeyance
Aditya Prakash
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जिन्दगी का मामला।
Taj Mohammad
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
बिल्ली हारी
Jatashankar Prajapati
सुनो ! हे राम ! मैं तुम्हारा परित्याग करती हूँ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
kamal purohit
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
कर्म पथ
AMRESH KUMAR VERMA
** यकीन **
Dr. Alpa H.
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
तरसती रहोगी एक झलक पाने को
N.ksahu0007@writer
【28】 *!* अखरेगी गैर - जिम्मेदारी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
“मोह मोह”…….”ॐॐ”….
Piyush Goel
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
मुझको खुद मालूम नहीं
gurudeenverma198
Loading...