Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Aug 10, 2016 · 1 min read

कुछ होते है मतलब से…..

कुछ होते है मतलब से होते है,
शायद मतलबी दुनियां से होते है
रिश्ते नाते प्यार भरी बाते
लंबे-चोड़े वायदों की भरी पराते
मतलब से आते,
मतलब से जाते
खाते-पीते मौज उड़ाते
खा पीकर जाने कहाँ उड़ जाते
मतलब समझ न पाये मतलबी का
नहीं तो शायद हम भी मतलबी हो जाते
कुछ होते है मतलब से होते है
शायद मतलबी दुनियां से होते है
मतलबी का मतलब बहुत बाद में समझ आया,
जब अपनों ने हमें मतलब से चलाया,
कुछ होते है…

^^^^^^दिनेश शर्मा^^^^^^^

1 Comment · 260 Views
You may also like:
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
Ram Krishan Rastogi
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
पिता
लक्ष्मी सिंह
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...