Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-562💐

कुछ हुआ ही नहीं है पयाम सी बात तो करो,
मिलो इक रोज़ सुनहरी सी मुलाक़ात तो करो,
आसाँ बनेगा सब मैं ही करूँ क्या तिरे हिस्से का,
मुस्कुराहट के साथ कोई मुझसे बात तो करो।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
बात तो करे कोई।

Language: Hindi
145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जहां तक तुम सोच सकते हो
जहां तक तुम सोच सकते हो
Ankita Patel
मंजिल की तलाश
मंजिल की तलाश
AMRESH KUMAR VERMA
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
मानवता का धर्म है,सबसे उत्तम धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
~~बस यूँ ही~~
~~बस यूँ ही~~
Dr Manju Saini
नववर्ष का संकल्प
नववर्ष का संकल्प
DESH RAJ
सदा सुहागन रहो
सदा सुहागन रहो
VINOD KUMAR CHAUHAN
हो रही है
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
क्यों नहीं बदल सका मैं, यह शौक अपना
gurudeenverma198
वक़्त के शायरों से एक अपील
वक़्त के शायरों से एक अपील
Shekhar Chandra Mitra
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
_सुलेखा.
"संविधान"
Slok maurya "umang"
मौन में गूंजते शब्द
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
💐Prodigy Love-38💐
💐Prodigy Love-38💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
बुद्ध पुर्णिमा
बुद्ध पुर्णिमा
Satish Srijan
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
फिक्र ना है किसी में।
फिक्र ना है किसी में।
Taj Mohammad
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अखबार में क्या आएगा
अखबार में क्या आएगा
कवि दीपक बवेजा
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
✍️पत्थर का बनाना पड़ता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
# स्त्रियां ...
# स्त्रियां ...
Chinta netam " मन "
■ मानसिक गुलाम और आज़ादी की मांग
■ मानसिक गुलाम और आज़ादी की मांग
*Author प्रणय प्रभात*
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
अरे! पतझड़ बहार संदेश ले आई, बसंत मुसुकाई।
राकेश चौरसिया
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो,
लक्ष्मी सिंह
अकेला चांद
अकेला चांद
Surinder blackpen
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
शहर की गर्मी में वो छांव याद आता है, मस्ती में बिता जहाँ बचप
Shubham Pandey (S P)
सोना
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
गीत - मैं अकेला दीप हूं
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
भाप बना पानी सागर से
भाप बना पानी सागर से
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...