Dec 12, 2021 · 1 min read

कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते…

कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते…

कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते,
मिलते हैं दुश्मनों से गले छिप-छिप के जो ,
कहते हैं वफादारी सरेआम नहीं होते ।
अरमानों के तराजू पर सियासत और हुकुमत है,
मौत पे भी सियासत कभी खुलेआम नहीं होते।
नफ़रत की चिंगारियों संग ख़ौफ़ का कोहरा है,
पर कहतें है कि,हम कभी बदनाम नहीं होते।
देखा नहीं कभी उनकी,आंखों का समुंदर होना,
वीरों की वीरगति पे कभी वे रुख़सत नहीं होते।
दधीचि के पुत्र हम भी,अस्थियों से वज्र बनाते,
शराफत किए फिरते पर तलबगार नहीं होते ।
जग गए हैं अब,बस्ती के सोये हुए मुलाजिम ,
भरमाना उन्हें तो छोड़ो बदनाम सियासतदारों,
दौलत पे नाज करनेवाले,कभी मददगार नहीं होते ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १२ /१२ / २०२१
शुक्ल पक्ष , नवमी , रविवार ,
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

7 Likes · 2 Comments · 753 Views
You may also like:
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-10💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गैरों की क्या बात करें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam मन
एक आवाज़ पर्यावरण की
Shriyansh Gupta
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
फरिश्ता से
Dr.sima
क्या देखें हम...
सूर्यकांत द्विवेदी
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग२]
Anamika Singh
ग़ज़ल
kamal purohit
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H.
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अभी दुआ में हूं बद्दुआ ना दो।
Taj Mohammad
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
Loading...