Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-167💐

कुछ भी नहीं मिला इश्क़ में कुछ भी नहीं,
अब तो सुनो दिन भी रात सा लगे।
©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
ये भी सच है के हम नही थे बेइंतेहा मशहूर
'अशांत' शेखर
स्वाधीनता संग्राम
स्वाधीनता संग्राम
Prakash Chandra
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
Almost everyone regard this world as a battlefield and this
नव लेखिका
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
“ অখনো মিথিলা কানি রহল ”
DrLakshman Jha Parimal
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
मन
मन
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
आंखों का वास्ता।
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
लोरी
लोरी
Shekhar Chandra Mitra
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
"कोई तो है"
Dr. Kishan tandon kranti
Milo kbhi fursat se,
Milo kbhi fursat se,
Sakshi Tripathi
■ मुक्तक / पुरुषार्थ ही जीवंतता
■ मुक्तक / पुरुषार्थ ही जीवंतता
*Author प्रणय प्रभात*
💐अज्ञात के प्रति-124💐
💐अज्ञात के प्रति-124💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माटी के पुतले
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
*योग-ज्ञान भारत की पूॅंजी, दुनिया को सौगात है(गीत)*
Ravi Prakash
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
हमदर्द हो जो सबका मददगार चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Life is a series of ups and downs. Sometimes you stumble and
Manisha Manjari
ना मुराद फरीदाबाद
ना मुराद फरीदाबाद
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं असफल और नाकाम रहा!
मैं असफल और नाकाम रहा!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
बेकसूरों को ही, क्यों मिलती सजा है
बेकसूरों को ही, क्यों मिलती सजा है
gurudeenverma198
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
నా తెలుగు భాష..
నా తెలుగు భాష..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
तुम्हारे आगे, गुलाब कम है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...