Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2022 · 1 min read

कुछ पल का है तमाशा

समझे वही हक़ीक़त
जिनकी समझ में आयी ।
कुछ पल का है तमाशा
कुछ पल की वाहवाही ॥
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 223 Views
You may also like:
शख्स या शख्शियत
Dr.S.P. Gautam
बचपन में थे सवा शेर
VINOD KUMAR CHAUHAN
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
*जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
निकम्मे नेता
Shekhar Chandra Mitra
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
खोकर के अपनो का विश्वास...। (भाग -1)
Buddha Prakash
एक नज़म [ बेकायदा ]
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारी बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
आतुरता
अंजनीत निज्जर
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh Hans
मिल गयी
shabina. Naaz
रानू रानाघाट की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कोरोना - इफेक्ट
Kanchan Khanna
डिजिटल प्यार था हमरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
साथ आया हो जो एक फरिश्ता बनकर
कवि दीपक बवेजा
सास और बहु
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️सब खुदा हो गये✍️
'अशांत' शेखर
विष्णुपद छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
प्रकृति और कोरोना की कहानी मेरी जुबानी
Anamika Singh
एक थे वशिष्ठ
Suraj kushwaha
बाहों में तेरे
Ashish Kumar
गज़लें
AJAY PRASAD
मेरे प्यारे देशप्रेमियों
gurudeenverma198
आनी इक दिन मौत है।
Taj Mohammad
Loading...