Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2022 · 1 min read

कुछ नहीं

कुछ नहीं तुझ से प्यार है शायद ।
तेरा एहसास दिल को छूता है ।।
क्यूँ बिछड़ कर बिछड़ नहीं पाये ।
साथ कब से हमारा छूटा है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
6 Likes · 117 Views
You may also like:
हमसफ़र
Anamika Singh
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
गंगा दशहरा गंगा जी के प्रकाट्य का दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
हास्य दोहा अष्टमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
I sat back and watched YOU lose me.
Manisha Manjari
करना धनवर्षा उस घर
gurudeenverma198
वीर
लक्ष्मी सिंह
*मित्र ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
औरत, आज़ादी और ज़िंदगी
Shekhar Chandra Mitra
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पत्थर के भगवान
Ashish Kumar
आज नज़रे।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
ईर्ष्या
Saraswati Bajpai
बेटियाँ
Shailendra Aseem
अद्भुत सितारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ दर्द भी बे'मिसाल है
Dr fauzia Naseem shad
एक अलबेला राजू ( हास्य कलाकार स्व राजू श्रीवास्तव के...
ओनिका सेतिया 'अनु '
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"कुछ अधूरे सपने"
MSW Sunil SainiCENA
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
माँ
shabina. Naaz
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...